12/5/11

'भ्रष्टाचार' की 26 कंपनियां, राहुल गांधी ने दिया साथः भाजपा

लखनऊ.उत्तर प्रदेश में मायावती शासन में हुए घोटाले पर कड़ा रूख अपनाते हुए भाजपा नेता उमा भारती ने तीखा रूख प्रहार किया है। यूपी में मायावती शासन में हुए भ्रष्टाचार के लिए उमा ने राहुल गांधी और कांग्रेस को भी जिम्मेदार ठहराया है।

राज्य में भाजपा को दोबारा जीवित करने के मिशन की कमान संभाले हुए मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मायावती शासन में यूपी को लूटा गया और केंद्र में कांग्रेस सरकार देखती रही।

मायावती के भाई आनंद कुमार पर 26 कंपनियां चलाने का आरोप लगाते हुए प्रैस कांफ्रैंस में इन कंपनियों की एक सूची भी जारी कई गई। उमा ने कहा कि यह कंपनियां भ्रष्टाचार के पैसे से चल रही हैं। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कीर्ति सौमेय्या ने कहा कि आनंद कुमार की भ्रष्टाचार के पैसे से पोषित इन कंपनियों ने पिछले चार साल में बेशुमार दौलत कमाई है। इसकी जांच होनी चाहिए।

उमा ने कहा, राज्य में भाजपा का शासन आने पर वो मायावती और उनके सभी रिश्तेदारों की संपत्ति को जब्त करके राज्य हित के कार्यों में लगाएंगी। मायावती शासन में हुए भ्रष्टाचार के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराते हुए उमा ने कहा कि मैं राहुल गांधी और सोनिया गांधी की नैतिकता को चुनौती देते हुए यह आग्रह करती हूं कि वो मायाराज के भ्रष्टाचार की जांच करवाए।

उमा ने कहा कि राहुल गांधी और सोनिया गांधी दोनों ही यूपीए और कांग्रेस में महत्वपूर्ण पदों पर हैं लेकिन उन्होंने यूपी की ओर से आंख मूंद ली है। राहुल गांधी पदयात्रा के नाम पर ड्रामेबाजी तो करते हैं लेकिन भ्रष्टाचार से निबटने के लिए किसी भी स्तर पर कुछ नहीं करते। मैं भ्रष्टाचार के पैसे से चल रही इन कंपनियों की सूची राहुल को सौपूंगी और उनसे इनके खिलाफ जांच के लिए कहूंगी।

उमा ने कहा, तमाम तरह के आर्थिक अपराधों की जांच करने वाली एजेंसियों की कमान यूपीए के हाथ में है लेकिन फिर भी यूपी को लूटा जाता रहा। सच ये है कि यूपी में हुए व्यापक भ्रष्टाचार और घोटाले बहुजन समाजवादी पार्टी और कांग्रेस की मिलीभगत का नतीजा हैं। गौरतलब है कि मायावती सरकार के कई मंत्री घोटालों में फंसे हुए हैं। उन पर जांच चल रही है। हाल ही में कद्दावर मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी पर पद के दुरूपयोग व संपत्ति जुटाने का आरोप लगाते हुए लोकायुक्त से शिकायत की गई है।

लोकायुक्त न्यायमूर्ति एनके मेहरोत्रा ने कहा है कि नसीमुद्दीन सिद्दीकी के संबंध में उन्हें दो शिकायतें मिली हैं। पहले इसरार उल्ला सिद्दीकी ने शिकायत की थी पर औपचारिकताएं पूर्ण न होने के कारण शिकायत को पंजीकृत कर अभी जांच नहीं शुरू हुई है। दूसरी शिकायत आशीष सागर की ओर मिली है। सिद्दिकी के खिलाफ की गई शिकायतों में उनके ऊपर परिजनों व रिश्तेदारों को पहाड़ व बालू के पट्टे करवाने के अलावा बांदा के गांव स्योढ़ा में आलीशान मकान, शहर में दो कोठी के अलावा लखनऊ, बाराबंकी व गाजियाबाद में अकूत संपत्ति खड़ी करने का आरोप है।



0 comments:

Post a Comment

 

Followers